Home मुस्लिम जगत काबे के गिलाफ में लगती है इतने किलो रेशम और इतना सोना,...

काबे के गिलाफ में लगती है इतने किलो रेशम और इतना सोना, जानकर उड़ जायेंगे होश…

121
0
SHARE

क्या आप जानते है कि खाना ए काबा के गिलाफ में कितनी रेशम और कितना सोना लगता है. नहीं ना, लेकिन एक खबर आ रही है कि रूस और पूर्व सोवियत गणराज्यों के दो सौ लोगों ने बीते मंगलवार को काबा किसवा देखने के लिए किंग अब्दुल अज़ीज़ कॉम्प्लेक्स का दौरा किया. वह उमराह के लिए किंग सलमान कार्यक्रम के मेहमान के तौर पर आए. मेहमानों ने कार्यक्रम के 11 वें बैच का प्रतिनिधित्व किया.

इतना ही नहीं ताजिकिस्तान, किर्गिस्तान, कजाकिस्तान, रूस, उजबेकिस्तान, अज़रबैजान और बेलारूस से आए. यात्रा की शुरुआत में मेहमानों को किसवा को बनाने के चरणों, इसके इतिहास, इसको बनाने में लगने वाली चीज़ें और कैसे किंग अब्दुल अज़ीज़ परिसर की स्थापना की गयी थी.

बाद में उन्होंने किसवा को बनाने के अलग-अलग खंडों का निरीक्षण किया और आखिर में उन्होंने सब के साथ ग्रुप में तस्वीरें लीं.

काबा किसवा को तैयार करने में लगता है इतना रेशम…
आपको बतादे कि काबा किसवा को तैयार करने में 700 किलोग्राम रेशम और 120 किलोग्राम सोने और चांदी के धागे का इस्तेमाल किया गया है. इसमें 47 कपड़ों के टुकड़ों का इस्तेमाल किया गया है. हर कपड़े की लंबाई 14 मीटर है और 101 सेंटीमीटर चौड़ा है.

इसके बाद, उन्होंने दो पवित्र मस्जिदों के आर्किटेक्चर प्रदर्शनी का दौरा किया और दुर्लभ वस्तुओं, हस्तलिखित, बेशुमार कीमती प्राचीन वस्तुएं, साथ ही दो पवित्र मस्जिदों की ऐतिहासिक तस्वीरों और मस्जिदों के पुराने और नए गुणों, ज़मज़म और काबे का दरवाज़ा देखा.

कार्यक्रमों के लिए किंग सलमान की सराहना की…
बतादें कजाकिस्तान के शम्स-उल-दीन करीम ने उमराह के लिए तीर्थयात्रियों और कई बड़ी परियोजनाओं को मक्का और पवित्र स्थलों के साथ-साथ दो धार्मिक मस्जिदों में किए जाने वाले कई बड़े कार्यक्रमों के लिए किंग सलमान कार्यक्रम की सराहना की.

उज्बेकिस्तान में इमामों और मस्जिदों के निदेशक शेख मोहम्मद बाबर अब्दुलरहमान ने भी तीर्थयात्रियों को राज्य द्वारा प्रदान की गई सेवाओं की सराहना की और कहा कि उन्होंने किंग सलमान कार्यक्रम को विद्वानों के लिए एक मंच माना.

हमारा फेसबुक पेज लाइक करने के लिए यहाँ क्लिक करें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here