Home मज़हबी जब जिब्रील अलैहिस्सलाम ने आखिरी नबी को दोज़क का ये वाकया सुनाया,...

जब जिब्रील अलैहिस्सलाम ने आखिरी नबी को दोज़क का ये वाकया सुनाया, हर मुसलमान पढ़कर नमाज़ी हो जाएगा

241
0
SHARE

अल्लाह के रसूल के पास अल्लाह ताला की तरफ से वही लाने वाले हज़रत जिबरील आप के पास एक मर्तबा आए, तो कुछ परेशान दिख रहे थे. अल्लाह के रसूल ने पूछा जिबरील परेशानी के आसार क्यों हैं, तो हज़रत जिबरील अर्ज़ किया, या रसूलूलल्लाह मैं अभी जहन्नत को देख कर आ रहा हाऊन, वहाँ के जो हालत देखें हैं, उसी को देख कर परेशान हूँ.

जिबरील मुझे भी जहन्नम के बारे में कुछ बताओ…
अल्लाह के रसूल ने फरमाया कि जिबरील मुझे भी जहन्नम के बारे में कुछ बताओ, तो हज़रत जिबरील ने अर्ज़ किया कि या रसूलूलल्लाह जहन्नम के कुल सात दर्जे हैं, और दर्जे में अलग अलग लोगों को रखा जाएगा.

जहन्नम के निचले दर्जे में मुनाफिक को रखा जाएगा…
जहन्नम का जो सबसे निचला वाला दर्जा है, उसमें मुनाफिक को रखा जाएगा, वहीं उसके ऊपर जो दर्जा उस मेन मुशरीक डाले जाएँगे, उसके बाद सितारा परस्त डाले जाएँगे, उसके बाद आग परस्त डाले जाएँगे,उसके बाद यहूदी डाले जाएँगे,उसके बाद ईसाई डाले जाएँगे.

इतनी बात बता कर हज़रत जिबरील खामोश हो गए,तो अल्लाह के रसूल ने फरमाया कि जिबरील खामोश क्यों हो आगे बताओ कि उसके बाद किसे डाला जाएगा. तो हज़रत जिबरील ने अर्ज़ किया कि उसके बाद आप की गुनहगार उम्मत को डाला जाएगा.

अल्लाह के रसूल गम में डूब गए…
यह सुनकर अल्लाह के रसूल गम में डूब गए, और अल्लाह ताला से अपनी उम्मत के लिए दुआ करने लगे, आप ने तीन दिन तक लोगों से दूर हो गए, और अल्लाह ताला से दुआ करते रहे, और अपनी उम्मत को जहन्नम से बचाने के लिए अल्लाह ताला की बारगाह में इबादत व दुआ करते रहे.

आप फिर अल्लाह से दुआ करने लगे…
कई सहाबी आप की बारगाह में गए लेकिन आप ने किसी को जवाब नहीं दिया. इसके बाद आपकी बेटी आप के पास गई, तो आप ने जवाब दिया, और पूछा आप तीन दिन से अलग क्यों हैं, तो आप ने पूरा माजरा बताया, उसके बाद आप फिर अल्लाह से दुआ करने लगे.

उसके पास अल्लाह ताला की तरफ से पैगाम आया कि आप की उम्मत को बख्स दिया जाएगा, और ए नबी आप को इतना दिया जाएगा कि आप खुश हो जाएँगे.

 हमारा फेसबुक पेज लाइक करने के लिए यहाँ क्लिक करें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here