Home इतिहास उस्मानिया हुकुमत ने मज़हबी मक़सद के लिए तुर्की से मदीना तक चलाई...

उस्मानिया हुकुमत ने मज़हबी मक़सद के लिए तुर्की से मदीना तक चलाई थी ट्रेन…..

1183
0
SHARE

लखनऊ: एक वक़्त था जब लोगों के लिए सफर करना बहुत मुश्किल था. सफ़र लम्बा हुआ करता था और थकावट भरा भी. ऐसे में जो लोग हज करने जाते थे उनके लिए भी ख़ास दिक्क़त होती थी. उस्मानियां साम्राज्य ने हज करने जाने वाले लोगों के लिए विशेष इंतज़ाम किये थे ऐसे में जब ट्रेन चलाने की बात आयी तो मक्का तक ट्रेन चलाने का फैसला किया गया.

इसमें जर्मनी का सहयोग भी उस्मानिया साम्राज्य को मिला. हिजाज़ रेलवे को दमिश्क से लेकर मक्का तक चलाया गया. उस्मानिया रेल नेटवर्क में ये एक बड़ा हिस्सा था.

उस्मानिया हुकुमत ने चलाई थी ट्रेन…
इसकी मदद से हज करने जाने वाले लोगों को आसानी होने लगी. हालाँकि इसका लक्ष्य मक्का तक जाने का था लेकिन मदीना तक ही रेल शुरू हो सकी थी कि प्रथम विश्व युद्ध शुरू हो गया जिसके बाद रेल निर्माण रुक गया और सारा ध्यान युद्ध पर ही लग गया.

आधिकारिक तौर पर ये 1908 में शुरू हुई थी…
आपको बता दें कि ये वो वक़्त था जब जर्मनी और उस्मानिया साम्राज्य बहुत अच्छे मित्र थे. जर्मनी ने ही रेल-निर्माण कार्य में उस्मानिया साम्राज्य की मदद की थी. आधिकारिक तौर पर ये 1908 में शुरू हुई थी और 1920 में इसे पूरी तरह से बंद कर दिया गया. इसका प्रमुख लक्ष्य इस्ताम्बुल को इस्लामिक ख़िलाफ़त से जोड़ना था.

 

हालाँकि सुलतान अब्दुल हमीद 2 ने बहुत कोशिश की कि वो इस तरह का एक रेल क्षेत्र बनाए जिससे कि आने वाले वक़्त में हाजियों को फायदा मिले लेकिन उसका ये सपना अधूरा ही रह गया.

अब्दुल हमीद 2 के समय ही उस्मानिया साम्राज्य कमज़ोर होने लगा था, ऐसे में वो बिखरने भी लगा जिसके बाद सारी योजनायें अधूरी ही रह गयीं.

 हमारा फेसबुक पेज लाइक करने के लिए यहाँ क्लिक करें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here