Home विशेष मुस्लिम के बिना कैसी होती है दुनिया? इस शख्स ने दिया दिल...

मुस्लिम के बिना कैसी होती है दुनिया? इस शख्स ने दिया दिल को छू लेने वाला जवाब, शेयर करें

586
0
SHARE

नई दिल्ली: दुनिया के लिए अगर कुछ सबसे बुरा है तो वो है नफरत. जब तक इंसान इंसान से नफरत करता रहेगा तब तक खुशहाली नहीं आ सकेगी. ऐसे में जहां ज़रूरत इस चीज़ की है कि नफरत को कम किया जाए, लोग इसको बढाने की तरफ ज्यादा ध्यान लगा रहे हैं.

हम दूसरे धर्मों के प्रति पूर्वाग्रह में होते हैं. आजकल जो माहौल मीडिया ने बनाया है उसमें तो मुसलमानों के खिलाफ इस क़दर ज़हर भरा जा रहा है कि क्या ही कहा जाए.

इस्लामिक आतंकवाद…
पश्चिमी मीडिया की वजह से ही “इस्लामिक आतंकवाद” जैसे लफ्ज़ पैदा हुए हैं. इसी वजह से कभी कभी कुछ ऐसे सवाल सोशल मीडिया पर नाचने लगते हैं जिनका कोई मतलब नहीं हैं और बस नफरत फैलाने के लिए हैं.

इसी तरह की एक तस्वीर आजकल चल रही है जिसमें लिखा है “मुस्लिम के बिना कैसी होती दुनिया?” इस सवाल को इस तरह पूछा गया है कि मुस्लिम के प्रति नफरत बढे. इस के कैप्शन के साथ वर्ल्ड ट्रेड सेंटर की तस्वीर शेयर की थी.

ये दिया जवाब…
अब इसको लेकर कई लोगों ने करार जवाब भी दिया है. कुछ इसी तरह का जवाब सोशल नेटवर्किंग प्लेटफॉर्म टम्बलर (Tumblr) पर whatpath (व्हॉटपैथ) नामक यूजर ने दिया है. उसने बताया है कि अगर मुस्लिम ना होते तो आर्किटेक्चरल इनोवेशन (यूरोपियन गोथिक कैथेड्रल्स ने इस टेक्नीक को अपना लिया क्योंकि इससे बिल्डिंग ज्यादा मजबूत बन गई,

खिड़कियां बनने लगीं, गुबंद वाली बिल्डिंग्स और राउंड टावर्स आदि बनने लगे), सर्जिकल यंत्र, एनेस्थेसिया, विंडमिल, ट्रीटमेंट ऑफ काउपॉक्स, फाउंटेन पेन, गिनती प्रणाली, अल्जेबरा/ट्रिग्नोमेट्री, आधुनिक क्रिप्टोलॉजी, तीन नियमित भोजन (सूप, मांस/मछली, फल/नट्स),

क्रिस्टल ग्लास, कारपेट, चेक, बगीचे का आयुर्वेद और किचेन के बजाय खूबसूरती और मेडिटेशन के तौर पर प्रयोग, यूनवर्सिटी, ऑप्टिक्स, म्यूजिक, टूथब्रश, हॉस्पिटल्स, नहाना, रजाई ओढ़ना, समुद्र यात्रियों का कंपास, सॉफ्ट ड्रिंक, पेंडुलम, ब्रेल, कॉस्मेटिक्स, प्लास्टिक सर्जरी,

हस्तलिपि, पेपर और कपड़े की मैन्युफैक्चरिंग जीबर इब्न हय्यान नामक मुस्लिम को आधुनिक केमस्ट्री का पिता माना जाता है. उन्होंने एल्केमी को केमिस्ट्री में परिवर्तित किया.”

आधुनिकता में मुसलमानों का भी योगदान…
इस लम्बे चौड़े जवाब में यूजर ने बताने की कोशिश की है कि आधुनिकता में मुसलमानों का भी बहुत योगदान रहा है और उनके बिना दुनिया में ऐसी कोई भी चीज़ न होती जिस पर वो प्राउड करने की कोशिश कर रहे है.

 हमारा फेसबुक पेज लाइक करने के लिए यहाँ क्लिक करें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here