Home मज़हबी देश के मुसलमानों को बदनाम करने की साजिश नाकाम, अलग देश की...

देश के मुसलमानों को बदनाम करने की साजिश नाकाम, अलग देश की मांग मुसलमानों ने नहीं बल्कि इन…

319
0
SHARE

इस वक़्त सोशल मीडिया पर कोई भी खबर बिना जांच पड़ताल के शेयर नहीं करनी चाहिए, वजह है कि आने वाले लोकसभा चुनाव को देखते हुये कई तरह के फर्जी न्यूज़ व पोस्ट सोशल मीडिया पर पोस्ट किए जा रहे हैं, जिसके चलते अगर आप कोई भी पोस्ट आगे बढ़ाते हैं, तो परेशानी में पड़ सकते हैं.

बीते कुछ दिनों में ऐसे कई मामले सामने आ चुके हैं, जब फर्जी पोस्ट वायरल किए गए हैं, अभी मध्यप्रदेश के मंदसोर ज़िले में एक बच्ची के साथ बलात्कार के बाद भी कई फर्जी पोस्ट वायरल किया गए, ताकि एक खास समुदाय के लोगों को निशाना बनाया जा सके.

फर्जी पोस्ट वायरल की गयी…
इसी तरह कॉंग्रेस प्रवक्ता प्रियंका चतुर्वेदी के नाम से फर्जी पोस्ट वायरल किया, फिर उनकी दस साल की बच्ची के साथ बलात्कार की धमकी दे डाली थी. इसके बाद प्रियंका चतुर्वेदी ने पुलिस में शिकायत की तो उसे गुजरात के अहमदाबाद से हिरासत में ले लिया गया है.

इसी तरह अब एक विडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है, इस विडियो में यह बताया जा रहा है कि असम में बांग्लादेशी मुस्लिमों ने अलग मुस्लिम देश बनाने की मांग की है. जबकि हक़ीक़त कुछ और ही है.

ये वीडियो पिछले साल का है…
इस विडियो को फेसबूक पर सतीश द्विवेदी नाम के यूजर ने पोस्ट किया है. लेकिन यह विडियो अलग देश बनाने की मांग को लेकर नहीं है, बल्कि यह विडियो बीते साल हुये प्रदर्शन का है. इस बारे में गोलपाड़ा के एसपी अमिताभ सिन्हा ने बताया है कि पिछले साल प्रदर्शन में प्रदर्शनकारियों ने नारा लगाया था कि उत्पीड़न बर्दाश्त नहीं किया जाएगा.

वीडियो गलत तरीके से किया जा रहा पोस्ट…
उनका कहना था कि अवैध प्रवासियों की पहचान के नाम पर उन्हें परेशान किया जा रहा है. जो बर्दाश्त नहीं किया जाएगा. अब उसी विडियो को गलत तरीके से सोशल मीडिया पर पोस्ट किया जा रहा है.

हमारा फेसबुक पेज लाइक करने के लिए यहाँ क्लिक करें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here