Home मुस्लिम जगत दिल्ली में शिया-सुन्नी इफ्तार, नफरत फ़ैलाने वालों के मुंह पर जोरदार तमाचा……

दिल्ली में शिया-सुन्नी इफ्तार, नफरत फ़ैलाने वालों के मुंह पर जोरदार तमाचा……

200
0
SHARE

दारुल उलूम के नाम से कथित फतवा मीडिया में सामने आने के बाद में अब इस फतवे के झूठ होने की खबर सामने आई, लेकिन सोशल मीडिया पर यह फतवा बड़ी तेज़ी से सर्कुलेट हो रहा है. इसी को लेकर दिल्ली के जामा मस्जिद इलाके में शिया-सुन्नी इफ्तार कराया जा रहा है. इस इफ्तार के जरिए मोहब्बत का पैगाम दिया जाएगा.

दिल्ली में शिया-सुन्नी इफ्तार…
दिल्ली की संस्था शोल्डर टू शोल्डर के तहत यह इफ्तार प्रोग्राम एवान-ए-शाही रेस्तरां में रविवार शाम 6 बजे शुरू होगा, इफ्तार की तैयारी कर रहे इर्तजा कुरैशी ने नवभारत टाइम्स को बताया की, पता नहीं फतवा सच है या नहीं, अगर ऐसा कुछ फतवा आता भी है तो हम उसके खिलाफ हैं.

शिया-सुन्नियों ने एक साथ पढ़ी नमाज़…
घर में शौहर-बीवी, भाई, बहन, मां-बाप सबकी अलग-अलग राय होती है. इसका मतलब ये नहीं कि जिनकी राय अलग है, वो आपस में दुश्मनी पाल लें. एक दूसरे से नफरत करें. इर्तजा ने बताया कि इफ्तार एक साथ करने के बाद शिया-सुन्नी एक साथ ही नमाज भी पढ़ेंगे.

शोल्डर टू शोल्डर एक कैंपेन है, जो लोगों को साथ मिलकर रहने की अपील करता है. यह कैंपेन कभी क्रिसमस पर तो कभी दिवाली पर भी होता है.

नफरत किसी का भला नहीं करती…
इस इफ्तार के बारे में इतिहासकार राना सफवी ने बताया कि ढाई अक्षर प्रेम के, इस तर्ज पर जिंदगी जीना चाहिए. नफरत किसी का भला नहीं करती. यह इफ्तार भाईचारे की अपील है. इबादत करने के लिए घर हैं, इबादतगाह हैं. जब बाहर किसी से मिलो तो इंसानियत जिंदा रहे. सब मोहब्बत से रहें.

अगर ऐसा कोई फतवा आया है तो वो नफरत को बढ़ाने के सिवा किसी कुछ नहीं देता. मोहब्बतों को कायम करने के लिए ऐसे आयोजन होने चाहिए, क्योंकि हम सब एक हैं, कोई किसी का दुश्मन नहीं.

हमारा फेसबुक पेज लाइक करने के लिए यहाँ क्लिक करें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here