Home मज़हबी क़यामत के दिन सवाल किया जाएगा, क्या मेरे मुहाफ़िज़ लिखने वाले फरिश्तो...

क़यामत के दिन सवाल किया जाएगा, क्या मेरे मुहाफ़िज़ लिखने वाले फरिश्तो ने तुझ पर…

163
0
SHARE

हज़रत अब्दुल्लाह बिन उमर बिन आस रज़ियल्लाहु अन्ह से रिवायत है कि अल्लाह के नबी मौहम्मद सल्लल्लाहो अलैहे वसल्लम ने फ़रमाया कयामत के दिन अल्लाह तआला मेरी उम्मत में से एक शख्स को जुदा करेगा और उसके गुनाहों के 99 दफ्तर खोले जायँगे हर दफ्तर इतना बड़ा होगा जहाँ तक इंसान की नज़र पहुँचती है.

आज तुझ पर कोई ज़ुल्म नहीं होगा…
फिर अल्लाह फरमाएगा कि क्या तुझे इसमें से किसी बात (गुनाह) का इंकार है?, क्या मेरे लिखने वाले मुहाफ़िज़ फरिश्तों ने तुझ पर जुल्म किया है? वो अर्ज़ करेगा नहीं या रब्ब, फिर अल्लाह तआला फरमाएगा कि हमारे पास तेरी एक नेकी है आज तुझ पर ज़ुल्म नहीं होगा.

इस छोटे कागज़ का क्या वज़न होगा?…
फिर कागज़ का एक टुकड़ा निकाला जायेगा जिस पर अशहदु-अल्लाइलाहा इल्लाहु वा अशदुह अन्ना मुहमददं अब्दुहु व रसूलुहु लिखा हुआ होगा, अल्लाह सुब्हानहु फरमाएगा की मीज़ान के पास हाज़िर हो जा. वो कहेगा या अल्लाह उन गुनहाओ के दफ्तरों के सामने इस छोटे कागज़ का क्या वज़न होगा?

कलमे वाला टुकड़ा भरी हो जायेगा…
अल्लाह सुब्हानहु फरमाएगा कि आज तुझ पर कोई ज़ुल्म नहीं होगा. आप सल्लाहो अलैहि वसल्लम ने फ़रमाया फिर एक पलड़े में वो 99 दफ्तर रखे जायँगे और दूसरे पलड़े में कागज़ का वो टुकड़ा रखा जायेगा, दफ्तरों का पलड़ा हल्का हो जायेगा जबकि वो कलमे वाला काग़ज़ का टुकड़ा भरी हो जायेगा.

प्यारे रसूल ने फ़रमाया के अल्लाह सुब्हानहु के नाम के बराबर कोई चीज़ नहीं हो सकती. (जामिया तिर्मिज़ी जिल्द 2 534)

Hazarat Abdullaah Bin Umar bin aas RaziAllaah Anhu se Maarevee hai ki ALLAH ke Nabi Mohammad Sallallaaho Alaihe Waasalam ne pharamaaya qiyaamat ka din Allah taaala mere ushm se ek vyakti ko alag kiya aur usake gunaahon ka 99 daftar khola jaayange har kaaryaalay itana bada hoga manushy ka nazar aata hai.

ashahadu allaeelaah illaahu ashtaduh anna muhamaddan abduhu aur rasuluhu

likha hua tha, allaah subuhaanahu faaramaega ke meezan ke paas haazir ho ja. un kahega ya allaah un gunahon ke kaaryaalayon ke saamane saamane aaye hain, is chhote kaagaz se kya vazan hoga ?, allaah subuhaanu faaramaega kee aaj par koee zoolam nahin hoga.

Aap salaaho alaihi vaasalem ne pharamaaya phir ek palade mein 99 kaaryaalayon ko rakh diya aur doosara tukada mein kaagaz ka tukada rakha gaya, kaaryaalayon ke tukade ko halka ho jaega, jabaki vah kalam vaala kaagaz ka tukada bharega. pyaare rasool ne pharamaaya ke allaah subhanhu ke naam ke baraabar kisee cheej ko nahin ho sakata hai.

हमारा फेसबुक पेज लाइक करने के लिए यहाँ क्लिक करें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here