Home मज़हबी इन कामों से रोज़ा नहीं टूटता, लेकिन मकरूह हो जाता है: ज़रूरी...

इन कामों से रोज़ा नहीं टूटता, लेकिन मकरूह हो जाता है: ज़रूरी जानकारी पढ़कर शेयर ज़रूर करें…

290
0
SHARE

रमज़ान के महीने में बड़ी तेज़ गर्मी पड़ रही है और अल्लाह की रज़ा के लिए उसके बन्दे रमज़ान रख रहे हैं! लेकिन जाने अनजाने कुछ गलतियां भी हो जाती है! कुछ गलतियां ऐसी होती हैं जिनसे रोज़ा नहीं टूटता है लेकिन मकरूह हो जाता है!

इन सब चीज़ों के करने से रोज़ा मकरूह हो जाता है! हालाँकि इन सब कामों के बाद रोज़ा दोबारा नहीं रखना पड़ता है!
1- बिला ज़रूरत किसी चीज़ को चबाना या नमक वग़ैरह चख कर थूक देना!
2- टूथ पेस्ट या मंजन या कोयले से दांत साफ करना!
3- तमाम दिन हलते जिनबत में (बगैर गुस्ल किये हुए) रहना!
4- फसद कराना, या किसी मरीज़ क लिए अपना खून देना!
5- ग़ीबत यानि किसी की गेर मौजूदगी में उसकी बुराई करना जो हर हाल में हराम है, रोज़े में उसका गुनाह और बढ़ जाता है!
6- रोज़े में लड़ना, झगड़ना, या गाली देना! चाहे इंसान को दी जाये या किसी जानवर को या किसी बेजान को!

क्या है मकरूह…
मकरूह का मतलब रोज़े में कमी आना है! मतलब आपका रोज़ा तो हो जाता है लेकिन उतना बेहतर नहीं रहता जितना उसको होना चाहिए और आपके सवाब में भी कमी आ जाती है!

फेसबुक पर हमारा पेज लाइक करने के लिये, यहाँ क्लिक करे…

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here